Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 16, 2016 · 1 min read

ऊँचे चबूतरे पर…

ऊँचे चबूतरे पर जलता दीया
निचे रोशनी बिखेरना चाहता था
उन हवा के झोंके से बुझ गया
जो ऊँची ही चलती थी
ऊंचाई के अहसास के साथ
हवा यूँ ही बहती रही
पर दीया न जल पाया दुबारा
जो चाहता था निचे रोशनी
विखेरना…
ऊँचे चबूतरे पर जलता दिया।।

^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^

269 Views
You may also like:
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
चाहत
Lohit Tamta
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H. Amin
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
जीवन
Mahendra Narayan
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
पिता
Deepali Kalra
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो बीत गई।
Taj Mohammad
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr. Alpa H. Amin
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
होली का संदेश
अनामिका सिंह
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
कब आओगे
dks.lhp
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
Loading...