Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था…….

उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था,
उसका चेहरा मानो खिलता गुलाब सा था,
बिना देखे उसे दिल को चैन नहीं आता था,
बातें ना हो पाए तो रातों को नींद नहीं आता था,
पता नहीं हम दूर कैसे हो गए, अपनी आदतों से मजबूर कैसे हो गए, और आज भी मेरी यादों ने उनके दिल में जगह बनाई है, तभी तो सहेली के हाथों उसने मेरी खैरियत मंगवाई है।

Language: Hindi
1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं मोहब्बत हूं
मैं मोहब्बत हूं
Ritu Asooja
मैं शामिल तुझमें ना सही
मैं शामिल तुझमें ना सही
Madhuyanka Raj
करवाचौथ (कुंडलिया)
करवाचौथ (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
एक और इंकलाब
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
कृष्णकांत गुर्जर
मेरे मौन का मान कीजिए महोदय,
मेरे मौन का मान कीजिए महोदय,
शेखर सिंह
जीवन का किसी रूप में
जीवन का किसी रूप में
Dr fauzia Naseem shad
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
वफा करो हमसे,
वफा करो हमसे,
Dr. Man Mohan Krishna
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
4. गुलिस्तान
4. गुलिस्तान
Rajeev Dutta
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सुंदर लाल इंटर कॉलेज में विद्यार्थी जीवन*
*सुंदर लाल इंटर कॉलेज में विद्यार्थी जीवन*
Ravi Prakash
"मूलमंत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...