Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

उसकी आँखें

रोज़ तकती हैं उसकी आँखे
देखतीं हैं सबकुछ उसकी आँखें
भँवरे का तड़पना , तडपते रहना
हर रोज़ देखतीं हैं आँखें ।।

कई बार मैंने कोशिश की थी
देखूँ किसे तकती हैं आँखें
आँखों में तो गुल खिलें थें
न जाने किससे की थीं बातें

रहस्य बना था आँखों का तब तक
जबतक मैंने बस उनको देखा
मृगतृष्णा में हर पल भटका
पर मैं तो बस वहीँ पड़ा था ।।

उसकी आँखों से मैंने देखा
अपनी आँखें बंद जब करके
हर तरफ बस मैं हीं मैं था
और चुपचाप तकती थीं “उसकी आँखें”

…..अर्श

Language: Hindi
592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लालच
लालच
Vandna thakur
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐*सेहरा* 💐
💐*सेहरा* 💐
Ravi Prakash
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
3253.*पूर्णिका*
3253.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
डॉक्टर रागिनी
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
Loading...