Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

उसका-मेरा साथ सुहाना….

उसका मेरा साथ सुहाना बरसों से है।
दिल से दिल का मेल सुहाना बरसों से है।

नदिया-सागर जिस छोर मिले औ एक हुए,
नयन – कोर पर बना मुहाना बरसों से है।

कितना गा लूँ फिर भी नव्यता कम न होती,
अधरों पर इक नेह- तराना बरसों से है।

मिट जाते हम कबके रंजो-गम के डर से,
उसकी खातिर जिएँ बहाना बरसों से है।

पलभर गर गुम जाए जान हलक में आए,
दिल में उसका बना ठिकाना बरसों से है।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

1 Like · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
"खुरच डाली है मैंने ख़ुद बहुत मजबूर हो कर के।
*Author प्रणय प्रभात*
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
जगदीश शर्मा सहज
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
लेशमात्र भी शर्म का,
लेशमात्र भी शर्म का,
sushil sarna
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
Loading...