Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2017 · 1 min read

उलझे उलझे बाल

मैंने अपने हाथ पर,ज्यों ही रखा गुलाल !
याद किसी के आ गये, . गोरे गोरे गाल !!
गोरे गोरे गाल , और वो होंठ गुलाबी !
उलझे उलझे बाल, नशीले नैन शराबी !!
आयेंगे वो याद, नयन उसके फिर पैंने !
नही लगाया रंग,अगर जो अबके मैने! !!
रमेश शर्मा..

1 Like · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
💐अज्ञात के प्रति-56💐
💐अज्ञात के प्रति-56💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
संभव भी असम्भव
संभव भी असम्भव
Dr fauzia Naseem shad
Loading...