Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

उर्दू

उर्दू सीखने का एक बार हमें शौंक चढ आया।।
घर में हमने मगर ,किसी को न बतलाया।

गूगल की सहायता ली ,ऐप नया नया भरवाया।
यू ट्यूब की मदद से ,हाथ उल्टा सीधा चलाया।

अलिफ़,बे, टे लिखने में हफ़्ता एक लगाया।
उल्टी तरफ़ से लिखने में पसीना भी बहाया।

एक महीना कोशिश की ,ज़रा समझ न आया
बच्चे बोले”छोड़ो दादी, कहां खुद को फंसाया।

पति बोले “मत कष्ट करो,ये तेरे लिए न बनाया।
उर्दू शब्दों को लिखो हिंदी में, आईडिया सुझाया।

तमन्ना रह गई दिल में, दिमाग उर्दू न सीख पाया
नाती नातिन कहते ,दादी ने दिमाग न पाया।☺️☺️

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
गुमराह नौजवान
गुमराह नौजवान
Shekhar Chandra Mitra
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ Rãthí
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Neeraj Agarwal
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
हज़ारों रंग बदलो तुम
हज़ारों रंग बदलो तुम
shabina. Naaz
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
gurudeenverma198
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...