Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।

उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
जिन्दगी के हसीं लम्हें नम होते रहे
अब रहे है साथ वहीं जो चलेंगे कदम से कदम
बन के मेरी परछाई हर पल हर दम
बन के साज़ जो मेरे सुर में बाजे है
झुम के होकर मस्त संग मेरे नाचे है
वो दोस्त मेरे दिल में जो हर दम समायें
जिसके बिना एक पल भी रहा न जाये।
जिसकी यारी मेरी जान से भी प्यारी है
दोस्तों में जग से न्यारी वो बेटीयां म्हारी है।

372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sonu sugandh
View all
You may also like:
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
*दोस्त*
*दोस्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पढ़े लिखें परिंदे कैद हैं, माचिस से मकान में।
पढ़े लिखें परिंदे कैद हैं, माचिस से मकान में।
पूर्वार्थ
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
3065.*पूर्णिका*
3065.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"वट वृक्ष है पिता"
Ekta chitrangini
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*प्रणय प्रभात*
Loading...