Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

उम्र के इस पडाव

उम्र के इस पडाव पर,किसी से कोई गुरेज़ नही।
सच्चा-जूठा मानते हैं लोग,मुझे जूठे से परहेज़ नही।।
उम्र के इस पडाव..
इस कदर पाबस्ता है संज़ीदगी मेरे आशियाने मे,
खबर खुशी या गम की हो,कोई भी हैरतअंगेज नही।|
उम्रके इस पडाव…..
दर्द का अब तो कोई अहसास होता नही।
किसी ने भी दिया हो,पर वो कोई चंगेज़ नही।।
उम्र के इस पडाव..
कोई कमसिन हो,हसीन हो क्या फर्क पडता है?
हाड-माँस किसी उम्र के लोथडे मे कोई क्रेज़ नही।।
उम्र के इस पडाव..

Language: Hindi
1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
अपना माना था दिल ने जिसे
अपना माना था दिल ने जिसे
Mamta Rani
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
*प्रणय प्रभात*
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
Manoj Mahato
"दोस्ताना "
DrLakshman Jha Parimal
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
हर  क़दम  ठोकरें  खा के  चलते रहे ,
हर क़दम ठोकरें खा के चलते रहे ,
Neelofar Khan
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
VEDANTA PATEL
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पूनम का चांद
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...