Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2017 · 1 min read

* उम्र अगर ढ़लती नहीं *

2.4.17 प्रातः * 11.7

उग्र अगर यूं ढ़लती नहीं

कामनाये यूं छलती नहीं

नज़रें बचाते है यूं उनसे

नजरें कहीं दो-चार नहीं ।।

डर -डर निकलती है उम्र

सर -सर निकलती है उम्र

हर पल लहर लहर चलती

हरक्षण छलती चलती उम्र ।।

जलती है सूखी लकड़िया

नम जिस्म कब जलते है

दिल जलते है धूं-धूं कर

नम दिल से उठता धुंवा ।।

फ़िक्र अब क्यूं है दिल

बेफिक्र हो यूं महफ़िल

अलविदा कह अब दिल

चल अब जहां ओर कहीँ ।।

कर इबादत अपने ख़ुदा की

और पा ले जन्नत जहां की

नज़र उसकी कयामत लाती

नज्र अब उसको जवानी की।।

अब रवानी उसकी रंग लायेगी

पीछे यादें जमाने को रुलायेगी

क्या कहूं जमाना कब हंसेगा

जब वज़ह जमाने को रुलायेगी ।।

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
Ravi Prakash
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
■ नई महाभारत..
■ नई महाभारत..
*Author प्रणय प्रभात*
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहा - स्वागत
हिन्दी दोहा - स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'अ' अनार से
'अ' अनार से
Dr. Kishan tandon kranti
राह नीर की छोड़
राह नीर की छोड़
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
Shashi kala vyas
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
शायर जानता है
शायर जानता है
Nanki Patre
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
When you realize that you are the only one who can lift your
When you realize that you are the only one who can lift your
Manisha Manjari
Loading...