Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2017 · 1 min read

उपमा

तुझे उपमा दूँ तो आखिर किसकी
उपमा से भी तू अनुपम
अनुपमता में हीं मैं भटका
कैसे करूँ , मैं तेरा वर्णन ।।

बर्फ के भीतर से रश्मि,
छन कर आती वैसा कहूँ
बर्फ पर बिछी चाँदनी या
चाँदनी को बिंदिया कहूँ ।।

तेरे लहराते आँचल को
बादल कहूँ या केशों को
मृग सा बना, इधर~उधर मैं
तुझको हीं ढूँढा करूँ ।।

तुम हीं कहो, तुम कौन हो मेरे
सांसों की डोर हो, या ज़िन्दगी का झंकार मेरे
मुझ कमल पर सोई शबनम या सागर की तृष्णा कहूँ
अलसाई रात की ठण्ड हवा, या प्रेम की ज्वाला कहूँ ।।

……..अर्श

Language: Hindi
581 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
Er. Sanjay Shrivastava
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
💐अज्ञात के प्रति-9💐
💐अज्ञात के प्रति-9💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
इबादत के लिए
इबादत के लिए
Dr fauzia Naseem shad
मज़दूरों का पलायन
मज़दूरों का पलायन
Shekhar Chandra Mitra
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
होली
होली
Madhavi Srivastava
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"देखो"
Dr. Kishan tandon kranti
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ Rãthí
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
Sonu sugandh
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
Sanjay ' शून्य'
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
👌आत्म गौरव👌
👌आत्म गौरव👌
*Author प्रणय प्रभात*
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
Ms.Ankit Halke jha
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
Loading...