Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

उनको देखा तो हुआ,

उनको देखा तो हुआ,
दिल को यह अहसास ।
भीगी पलकों में कहीं,
तड़प रहे मधुमास ।।

सुशील सरना / 2-2-24

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
जगदीश शर्मा सहज
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
spam
spam
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
पिता दिवस
पिता दिवस
Neeraj Agarwal
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"तफ्तीश"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
55 रुपए के बराबर
55 रुपए के बराबर
*प्रणय प्रभात*
वोट दिया किसी और को,
वोट दिया किसी और को,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
*आओ ढूॅंढें अपने नायक, अपने अमर शहीदों को (हिंदी गजल)*
*आओ ढूॅंढें अपने नायक, अपने अमर शहीदों को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
तुम्हारे दिल में इक आशियाना खरीदा है,
तुम्हारे दिल में इक आशियाना खरीदा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...