Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

…..उनके लिए मैं कितना लिखूं?

बोलो,अब क्या लिखूं, उनके लिए मैं कितना लिखूं?
क्या एक दिन आपके नाम लिखूं, बाकी दिन गुमनाम लिखूं।
पिता जी! रहेंगे अपरिभाषित आप, चाहे मैं जितना लिखूं।।

हो जाए पूरी वह मन्नत लिखूं,आपके पैरों में जन्नत लिखूं।
कड़ी धूप की छांव लिखूं या वात्सल्य से भरा गांव लिखूं।
पिता जी! रहेंगे अपरिभाषित आप, चाहे मैं जितना लिखूं।।

आपको पालनहार लिखूं या विशाल हृदय का सार लिखूं।
मैं जो हूं वह आज लिखूं या अपने सर का सरताज लिखूं।
पिता जी! रहेंगे अपरिभाषित आप, चाहे मैं जितना लिखूं।।

आप ही पहचान मेरी, आप पर अपनी उम्र तमाम लिखूं।
जो शब्दों में ना हो बयां उनके लिए अब क्या आम लिखूं।
पिता जी! रहेंगे अपरिभाषित आप, चाहे मैं जितना लिखूं।।

खुशियों का सार आप हो क्यों ना आपको भगवान लिखूं।
‘तूलिका’ पड़ जाती है बौनी, जब एक शब्द में सारा जहान लिखूं।
पिता जी! रहेंगे अपरिभाषित आप, चाहे मैं जितना लिखूं।।

~ऋचा त्रिपाठी “तूलिका”
~प्रयागराज (उत्तर प्रदेश)

19 Likes · 17 Comments · 450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
*प्रणय प्रभात*
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
23/193. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/193. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
Shiva Awasthi
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
Loading...