Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी

उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
बड़ा अज़ीब है रकीबो को भी मेरी फिक्र होने लगी

✍️©’अशांत’ शेखर
13/02/2023

2 Likes · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
सत्य कुमार प्रेमी
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
We make Challenges easy and
We make Challenges easy and
Bhupendra Rawat
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
#मसखरी...
#मसखरी...
*Author प्रणय प्रभात*
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अरे वो बाप तुम्हें,
अरे वो बाप तुम्हें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
प्रेम के जीत।
प्रेम के जीत।
Acharya Rama Nand Mandal
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
Loading...