Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल

उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
शब्द नहीं खोजे मिलते, जब होता है मेल
जब होता है मेल, लगे होठों पर ताला
थर थर कांपे हाथ लगे क्या होने वाला
क्या कहें ‘हृदय हरवंश’, जिह्वा गई कतर
नयनों की भाषा ही अब दिल में रही उतर

✍️ हरवंश ‘हृदय’

1 Like · 664 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समंदर है मेरे भीतर मगर आंख से नहींबहता।।
समंदर है मेरे भीतर मगर आंख से नहींबहता।।
Ashwini sharma
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
मेरी धड़कनों में
मेरी धड़कनों में
हिमांशु Kulshrestha
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़िंदगी अतीत के पन्नों में गुजरती कहानी है,
ज़िंदगी अतीत के पन्नों में गुजरती कहानी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
It’s all a process. Nothing is built or grown in a day.
पूर्वार्थ
दुख
दुख
Rekha Drolia
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
🙅आश्वासन🙅
🙅आश्वासन🙅
*प्रणय प्रभात*
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
दर्द लफ़ज़ों में
दर्द लफ़ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
फलक  पे   देखो  रौशनी  है
फलक पे देखो रौशनी है
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अजब गजब
अजब गजब
Akash Yadav
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...