Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

उतर चुके जब दृष्टि से,

उतर चुके जब दृष्टि से,
तब उतरे अहँकार
सबसे मिल जुलकर रहो,
मत भूलो सत्कार
महावीर उत्तरांचली

1 Like · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
"भीमसार"
Dushyant Kumar
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
अपनी  इबादत  पर  गुरूर  मत  करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
प्रदीप छंद और विधाएं
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
■ पैनी नज़र, तीखे सवाल
■ पैनी नज़र, तीखे सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माता पिता
माता पिता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
रुपेश कुमार
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
💐प्रेम कौतुक-452💐
💐प्रेम कौतुक-452💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
मन के मंदिर में
मन के मंदिर में
Divya Mishra
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
*गाते हैं जो गीत तेरे वंदनीय भारत मॉं (घनाक्षरी: सिंह विलोकि
Ravi Prakash
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
Sanjay ' शून्य'
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
Anil Mishra Prahari
पढ़ते कहां किताब का
पढ़ते कहां किताब का
RAMESH SHARMA
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
Loading...