Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने

उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
जिनकी दुहाईयां हम खुद को दे रहे थे
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
सुविचार
सुविचार
Sanjeev Kumar mishra
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
निज धर्म सदा चलते रहना
निज धर्म सदा चलते रहना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
"बेल की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अरे ! मुझसे मत पूछ
अरे ! मुझसे मत पूछ
VINOD CHAUHAN
"फेड्डल और अव्वल"
Dr. Kishan tandon kranti
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🙅ख़ुद सोचो🙅
🙅ख़ुद सोचो🙅
*प्रणय प्रभात*
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुक्तक -*
मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...