Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

ईश्वर

शीर्षक – ईश्वर
************-
जिंदगी भी बस तेरी चौखट के साथ हैं।
ऊपर वाले तू ही जगत का पालनहार है।
दो पैसे कम ज्यादा ही मानव का सच हैं।
सांसों के साथ नाम तेरा ही अनमोल हैं।
न तेरा न मेरा बस हम समझे संग तेरा हैं।
सोच और समझ के साथ खुशियां साथ हैं।
कुदरत ने अमीर गरीब रंक राजा ने सोचा हैं।
तेरे दर पर भिखारी सभी कुछ बाहर बैठे हैं।
अंदर और अंतर मन भावों के साथ हम हैं।
ईश्वर कुदरत भगवान कृपा निधान नाम हैं।
हां सच और झूठ का अंतर कर्म फल हैं।
ईश्वर भक्ति और श्रृद्धा का जप करते हैं।
तेरे विश्वास का हम सभी जीवन मानते हैं।
********************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
💐
💐
*प्रणय प्रभात*
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
Amulyaa Ratan
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
यह शहर पत्थर दिलों का
यह शहर पत्थर दिलों का
VINOD CHAUHAN
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
माँ ऐसा वर ढूंँढना
माँ ऐसा वर ढूंँढना
Pratibha Pandey
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
जज्बात की बात -गजल रचना
जज्बात की बात -गजल रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
Loading...