Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

ईश्वर है

कभी कभी लगता है
वो कुछ करता नही,
पर ऐसा नहीं
वो सब कुछ करता है;
कभी ऐसी घटना घटती है
कि, उसके अस्तित्व पर
हीं सवाल उठता है,
देखता हूं उसका न्याय
तो वह अन्यायी जैसा लगता है,
फिर भी आशावादी
होने के कारण ,
आश लगाए बैठते हूं तो
एक रोशनी नजर आने लगती है;
ऐसा देख लगता है कि,
वह खड़ा है मेरे पास ।
उसने जो किया वह अकारण नहीं था
उसके हर किए हुए के पीछे एक
कारण था ,
क्योंकि वह निरोद्देश्य नही करता
हम सोचते हैं कि ऐसा होगा,
पर वो कुछ और सोचता
और उसकी सोच में हीं नियति का भला है;
कभी कभी ऐसा नहीं लगता कि
मेरा बना बनाया बिगड़ गया,
बने काम को बिगाड़ना
बिगड़े को बनाना उसकी प्रकृति हो सकती है,
पर उसका न्याय नहीं हो सकता;
न्याय तो वह अन्यायी की तरह करता है
लगता है उसके हृदय में दया नही,
वह निस्ठुर निर्दयी हो सकता है
न्याय देने के लिए,
वह एक एक कर लेता है हिसाब
हमारे कर्मों का,
वह निस्पक्ष है तटस्थ रहकर भी
सबके साथ चलता है;
पर पक्ष धर्म का लेता है
और धर्म के लिए इस धरा पर अवतरित होता है , विभिन्न नाम रूपों में ।

461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from साहिल
View all
You may also like:
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
■ सीधी सपाट...
■ सीधी सपाट...
*Author प्रणय प्रभात*
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
ek abodh balak
ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
Shakil Alam
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
"यह भी गुजर जाएगा"
Dr. Kishan tandon kranti
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
Loading...