Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस

ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उसने तो औरत और मर्द के लिए एक ही जहां बनाया था। मगर इस जहां के मर्दों ने अपनी सहूलियत के हिसाब से औरतों का एक अलग ही जहां बना दिया।
अनु

1 Like · 1 Comment · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Sidhartha Mishra
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
ऐसा कभी क्या किया है किसी ने
gurudeenverma198
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
चलो कह भी दो अब जुबां की जुस्तजू ।
शेखर सिंह
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
Loading...