Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

ईश्वर की अदालत

हे ईश्वर अपनी अदालत मे
मेरे लिए कोई गिला न रखना
जैसी भी हूँ तेरी बंदी हूँ
मुझसे कोई शिकवा न रखना
कहते है सब इस दुनियाँ को
आप ही चलाते हो
इस दुनिया सारे कार्य
आप करवाते हो
मेरी आपसे विनती है ईश्वर
मुझे उन राहों पर कभी
आप नही लेकर जाना
जहाँ से मुझे आपके दर पर
आने में देर हो जाए।

अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
DrLakshman Jha Parimal
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*धन जीवन-आधार, जिंदगी चलती धन से(कुंडलिया)*
*धन जीवन-आधार, जिंदगी चलती धन से(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
Ashwini sharma
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
साढ़े सोलह कदम
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
कवि दीपक बवेजा
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
मुझे पूजो मत, पढ़ो!
मुझे पूजो मत, पढ़ो!
Shekhar Chandra Mitra
नारी को मानसिक रूप से
नारी को मानसिक रूप से
Dr fauzia Naseem shad
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
★नज़र से नज़र मिला ★
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
डियर जिंदगी ❤️
डियर जिंदगी ❤️
Sahil Shukla
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...