Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 1 min read

*ईर्ष्या भरम *

लेखक – डॉ अरुण कुमार शास्त्री

इन्सान का स्वभाव है ईर्ष्या करना ।
कोई – कोई होता है जगत में जानता जो प्यार करना ।

आपकी सफलता से सभी को मिल जाये खुशी ।
ये तो हो सकता नहीं कभी लिख लीजिए सभी ।

सबके अपने – अपने अनुभव हैं , सबकी पहचान अलग ।
ईश्वर ने निर्माण किया है हर जीव एक दूसरे से विलग ।

स्पर्धा हो ईर्ष्या न हो बात तर्क के आधार मानी जाएगी ।
जो कुढ़ता हो आपसे उस मनुष्य से मित्रता न हो पाएगी ।

निन्दा करता जो पुरुष उसका आचरण अहितकारी कहलाएगा ।
सन्त समाज में ऐसा मानुष सदा दुतकारा ही जायेगा ।

प्रेम से प्यार से सबको जो सम्मान देता आदर से ।
उस व्यक्ति का जगत में सभी खुशी से स्वागत करते ।

दुष्ट स्वभाव हो जिसका वो सब की प्रताड़ना ही पायेगा ।
काठ की हांडी सदा चले न एक दिन भेद तो खुल ही जायेगा ।

रामायण में मंथरा का किरदार सोचिए क्या कभी सराहा जायेगा ?
जिकर आएगा जब भी उसका हमेशा तिरस्कार ही वो पायेगा ।

ऐसा कोई क्षेत्र नहीं ईर्ष्यालू तो मिल जाते सभी जगह ।
बचकर रहना होगा आपको इनका संसर्ग सदा दुख दुविधा दे जायेगा ।

मुँह में राम बगल में छुरी , चाटुकारिता , होंठों पर मुस्कान है ।
ईर्ष्या युक्त मनुज के स्वभाव की भाइयों बस इतनी पहचान है ।

1 Like · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
तुम मेरी
तुम मेरी
Dr fauzia Naseem shad
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अंजान बनकर चल दिए
अंजान बनकर चल दिए
VINOD CHAUHAN
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन  के  हर  चरण  में,
जीवन के हर चरण में,
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Jatashankar Prajapati
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
Loading...