Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 2 min read

ईमानदारी

ईमानदारी

‘‘समोसे ले लो, समोसे । मूंगबड़े ले लो । गरमागरम समोसे, मूंगबड़े ले लो ।’’ साइकिल के पीछे बक्सा बांधकर समोसे बेचने वाले की आवाज सुनकर अपने सरकारी बंगले के गार्डन में पौधों को पानी दे रहे शर्माजी ने उसे अपने पास बुलाया । जब वह पास आया, तो शर्माजी ने उससे पूछा, ‘‘ये समोसे और मूंगबड़े बनाए किसने हैं ?’’
उसने डरते हुए बताया, ‘‘इन्हें मैं और मेरी पत्नी मिलकर बनाते हैं साहब ।’’
शर्माजी ने पूछा, “साफ-सफाई का ध्यान रखते हो कि कुछ भी मिलाकर बना देते हो ?”
‘‘बिल्कुल नहीं साहब । सारा काम हम खुद ही करते हैं । हम साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखते हैं । कमाई भले थोड़ी कम होती है, पर हम लोगों की सेहत से खिलवाड़ नहीं कर सकते ।’’ उसने कहा ।
‘‘विचार तो तुम्हारे बहुत ही अच्छे हैं । कहीं दुकान लगाकर क्यों नहीं बेचते हो ?’’ शर्माजी ने पूछा ।
‘‘बाबूजी मुझ गरीब की इतनी हैसियत कहाँ कि मैं कहीं दुकान खोल सकूँ । इसलिए रोज अपनी हैसियत के मुताबिक दो डब्बों में समोसे और मूंगबड़े भरकर गलियों में घूम-घूम कर बेचता हूँ ।’’ उसने अपनी व्यथा बताई ।
‘‘अच्छा ठीक है, दिखाओ जरा हमें भी अपने समोसे और मूंगबड़े ।’’ शर्माजी ने कहा ।
‘‘हाँ हाँ, क्यों नहीं । ये देखिए ।’’ उसने डब्बे के ढक्कन खोल दिए ।
गरम समोसे, मूगबड़े और धनिया-टमाटर की चटनी की खुशबू शर्माजी को बेकाबू करने लगे । उन्होंने कहा, ‘‘लग तो रहे हैं बहुत ही स्वादिष्ट होंगे । अच्छा एक काम करो । पचास-पचास रुपए की दोनों दे दो ।’’
‘‘साहब आप ?’’ वह आश्चर्य से पूछा ।
‘‘क्यों ? इसमें आश्चर्य की क्या बात है ?’’ शर्माजी ने कहा ।
‘‘दरअसल बात ये है साहब, कि मुझे आज पहली बार कोई बंगले में रहने वाले का ऑर्डर मिल रहा है । आज तक तो मैंने झुग्गी-झोपड़ी और गली मुहल्ले में ही बेचा हूँ । वो तो आज मैं गलती से इधर आ भटका हूँ ।’’ उसने समोसे और मूंगबड़े देते हुए बताया ।
‘‘ठीक है । अब से तुम कभी-कभी इधर भी आ जाया करना । मैं यहाँ कॉलोनी के मेरे कुछ पड़ोसियों को भी बता दूँगा । तुम्हारे समोसे, मुंगबड़े और तुम्हारी एक फोटो भी व्हाट्सएप पर शेयर कर दूंगा। इससे वे भी तुमसे खरीद लेंगे । और हां यदि तुम चाहो तो वो जो शहर के छोर में तहसील ऑफिस है न, दोपहर में लंच टाइम के आसपास वहां भी आ सकते हो। कोई कुछ बोले तो मुझे फोन कर बता देना । मैं ही वहां का तहसीलदार हूं । ये मेरा कार्ड है । अपने पास रखो । इसमें मेरा नाम और मोबाइल नंबर लिखा हुआ है ।’’ शर्माजी ने टेस्ट करने के बाद उसे प्रोत्साहित करते हुए कहा ।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
जिंदगी
जिंदगी
Seema gupta,Alwar
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
स्वास विहीन हो जाऊं
स्वास विहीन हो जाऊं
Ravi Ghayal
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
I can’t be doing this again,
I can’t be doing this again,
पूर्वार्थ
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
नारी शक्ति का हो 🌹🙏सम्मान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
*Author प्रणय प्रभात*
किस्मत की चाभी
किस्मत की चाभी
Awadhesh Singh
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2645.पूर्णिका
2645.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
Loading...