Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 1 min read

इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।

इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
वरना जनता के सवालों से मोदीजी हो जाते अब तक सरोकार

370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
बीते हुए दिनो का भुला न देना
बीते हुए दिनो का भुला न देना
Ram Krishan Rastogi
"समष्टि"
Dr. Kishan tandon kranti
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
Rachana
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
पूर्वार्थ
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"गर्दिशों ने कहा, गर्दिशों से सुना।
*Author प्रणय प्रभात*
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
कोरा संदेश
कोरा संदेश
Manisha Manjari
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...