Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

इस देश को प्राचीन संस्कार चाहिये

इस देश को प्राचीन संस्कार चाहिये
कर्तव्य हो प्रमुख,नही अधिकार चाहिये।
शिक्षा मिले कुछ ऐसी, जिसमें मूल्य भी रहें
हमको नहीं अब खोखला व्यापार चाहिये।
फैशन भी तन पे हो, लेकिन शभ्यता में हो
हर चाल ढाल में, अब सदाचार चाहिये।
अपराध जो करे, सजा तत्काल ही मिले
तारीख़ पे तारीख़ की, मिशाल न मिले
भारत के इस कानून में सुधार चाहिये।
छूने को छू सकता है, हर बुलंदियां कोई
माता पिता गुरु जी, का बस प्यार चाहिये।
ग़रीबी भुखमरी और लाचारियां भी हैं
कश्मीर असम अरुणांचल की दुश्वारियां भी हैं
पड़ोशियों की हरकतों को कर दे पल में
जो दफन,
दिल्ली की कुर्सी पे अब चमत्कार चाहिये
इस देश को प्राचीन संस्कार चाहिये।।

Language: Hindi
Tag: गीत
292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
वक्त
वक्त
Namrata Sona
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
"युद्ध की घड़ी निकट है"
Avinash Tripathi
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
~पिता~कविता~
~पिता~कविता~
Vijay kumar Pandey
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
पिता
पिता
Dr Manju Saini
आप जब हमको दिखते हैं
आप जब हमको दिखते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*Author प्रणय प्रभात*
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
आर.एस. 'प्रीतम'
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
💐प्रेम कौतुक-432💐
💐प्रेम कौतुक-432💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हार स्वीकार कर
हार स्वीकार कर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
Loading...