Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

इस दानव को मानव कहलाने दो — कविता

कविता

इस दानव को मानव कहलाने दो

मेरी तृ्ष्णाओ,मेरी स्पर्धाओ,
मुझ से दूर जाओ, अब ना बुलाओ
कर रहा, मन मन्थन चेतना मे क्र्न्दन्
अन्तरात्मा में स्पन्दन
मेरी पीःडा मेरे क्लेश
मेरी चिन्ता,मेरे द्वेश

मेरी आत्मा
, नहीं स्वीकार रही है
बार बार मुझे धिक्कार रही
प्रभु के ग्यान का आलोक
मुझे जगा रहा है
माया का भयानक रूप
नजर आ रहा है
कैसे बनाया तुने
मानव को दानव
अब समझ आ रहा है
जाओ मुझे इस आलोक में
बह जाने दो
इस दानव को मानव कहलाने दो

Language: Hindi
Tag: कविता
234 Views
You may also like:
एक हक़ीक़त
shabina. Naaz
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
वीर
लक्ष्मी सिंह
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हिंदी दोहा- बचपन
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कलम की नश्तर
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
मौन भी क्यों गलत ?
Saraswati Bajpai
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
दुल्हों का बाजार
मृत्युंजय कुमार
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
पिता
Neha Sharma
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
हाइकू (मैथिली)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जब ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
कब आओगे
dks.lhp
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
Loading...