Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

इस दानव को मानव कहलाने दो — कविता

कविता

इस दानव को मानव कहलाने दो

मेरी तृ्ष्णाओ,मेरी स्पर्धाओ,
मुझ से दूर जाओ, अब ना बुलाओ
कर रहा, मन मन्थन चेतना मे क्र्न्दन्
अन्तरात्मा में स्पन्दन
मेरी पीःडा मेरे क्लेश
मेरी चिन्ता,मेरे द्वेश

मेरी आत्मा
, नहीं स्वीकार रही है
बार बार मुझे धिक्कार रही
प्रभु के ग्यान का आलोक
मुझे जगा रहा है
माया का भयानक रूप
नजर आ रहा है
कैसे बनाया तुने
मानव को दानव
अब समझ आ रहा है
जाओ मुझे इस आलोक में
बह जाने दो
इस दानव को मानव कहलाने दो

Language: Hindi
411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
मेरे भोले भण्डारी
मेरे भोले भण्डारी
Dr. Upasana Pandey
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
खूबसूरत बुढ़ापा
खूबसूरत बुढ़ापा
Surinder blackpen
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
..........?
..........?
शेखर सिंह
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
शीत .....
शीत .....
sushil sarna
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
Rj Anand Prajapati
Loading...