Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2016 · 1 min read

इस जहाँ के अँधेरे मिटायेंगे हम ! एक सूरज नया फिर उगायेंगे हम !!

? मत्ला
*** 1 ***
इस जहाँ के अँधेरे मिटायेंगे हम
एक सूरज नया फिर उगायेंगे हम
*** हुस्ने मत्ला 2 ***
एक मत्ला तुम्हे अब सुनायेंगे हम
प्यार से फिर उसे यार गायेंगे हम
*** 3 ***
ख़्वाब हमने सजाये तुम्हारे लिए
रात ख़्वाबो में तुमको बुलायेंगे हम
*** 4 ***
ख़्वाब में तुम हमारे चले आना फ़िर
प्यार जितना है उतना लुटायेंगे हम
*** 5 ***
अब तुम्हें पास अपने बिठाकर सनम
इक ग़ज़ल प्यार की गुनगुनायेंगे हम
*** 6 ***
साथ तेरा मिले , बस यही चाह है
आसमां को भी छू कर दिखाएंगे हम
** 7 **×
चाहतो का सफ़र यार जैसा भी हो
उम्र भर साथ तेरा निभायेंगे हम
*** 8 ***
छोड़ कर ,वो गये बीच जो राह में
ज़िन्दगी भर उन्हें याद आयेंगे हम
*** 9 ***
नीर जो बह गए है नयन से मे’रे
एक मोती भी अब ना गिरायेंगे हम
*** 10 ***
अब चिरागों से रोशन हुई ज़िन्दगी
अब सदा ही यहाँ जगमगायेंगे हम
*** 11 ***
जिंदगानी फ़क़त चार दिन की नितिन
यह हक़ीक़त सभी को बतायेंगे हम

■■■ नितिन शर्मा ■■■

265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*Author प्रणय प्रभात*
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (दोहे)*
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (दोहे)*
Ravi Prakash
2722.*पूर्णिका*
2722.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दहलीज के पार 🌷🙏
दहलीज के पार 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेटियां
बेटियां
rubichetanshukla 781
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
"इसलिए जंग जरूरी है"
Dr. Kishan tandon kranti
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
💐प्रेम कौतुक-487💐
💐प्रेम कौतुक-487💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रेम समर्पण की अनुपम पराकाष्ठा है।
प्रेम समर्पण की अनुपम पराकाष्ठा है।
सुनील कुमार
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
बेटी-पिता का रिश्ता
बेटी-पिता का रिश्ता
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...