Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

इस छोर से…..

इस छोर से उस कोने तक, जो खामोशी सी पसरी है।
अनकही, अनछुई कुछ बातें, मानस में कुछ – कुछ उभरी हैं।
एक शून्य बाँधकर नयन डोर उतरा करता है इस पुल से,
चल खो जाएं सायों की तरह, इस शेष बचे दुर्लभ पल में।

शब – शाम यहाँ पर मिलते हैं, न जाने कितने अरसों से।
न जाने कितनी ही बाते, रखी है सहेजी बरसों से।
एक मौन नदी सी बहती है, तेरे मन तक मेरे मन से।
चल होंठ हिला कोई बात, चला इस शेष बचे दुर्लभ पल में।

अब वक़्त और न ठहरेगा, रातें रीती रह जाएंगी।
फिर तेरा होगा पता नहीं ध्वनि मेरी भी खो जाएगी।
चल आँखो से ही कुछ कह दे, यही भेंट माँगती हूँ तुझसे।
फिर सोचोगे, कुछ कह पाता इस शेष बचे दुर्लभ पल में।।
-शिवा अवस्थी

2 Likes · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"लिखना है"
Dr. Kishan tandon kranti
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
देख लेते
देख लेते
Dr fauzia Naseem shad
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...