Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

इस अनाथ को माँ जरूर देना

मैं हूँ अनाथ
इस दुनियाँ में मेरा
न घर न परिवार है
न ज़िन्दगी बेरंग है
कोई सुनता नहीं
लगता है सब पत्थर है …….

ज़माना हँसती है देख
फटे पुराने कपडे काला अंग
किसी क्या कहे
और किसे दोष दे
यहाँ सब है
अपने धुन में रंग ……….

बदलती है हर दिन ज़िन्दगी
पर दशा अपनी स्थिर
शाम कहीं और सुबह कहीं
खाने की तलाश में
भटकते है दर-बदर
पड़ गई है आदत
सो जाने की फुटपाथ में ………

देखा ही नहीं बचपन से
अपनी माँ को
माँ की ममता को
रोता हूँ चीखता -चिल्ल्ता हूँ
पागलो की तरह
कोचता हूँ अपने भाग्य को ………..

अगर मिल जाये भगवान कहीं तो
बस एक चीज़ मांगूगा
हे भगवान ! भले मुझे कुछ न देना
बस आपसे एक विनती है
इस अनाथ को माँ जरूर देना

Language: Hindi
649 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
कितने फ़र्ज़?
कितने फ़र्ज़?
Shaily
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
Shankar N aanjna
एकता
एकता
Aditya Raj
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रात एक खिड़की है
रात एक खिड़की है
Surinder blackpen
💐रामायण तथा गोस्वामीजी💐
💐रामायण तथा गोस्वामीजी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाल विवाह
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
थैला
थैला
Satish Srijan
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए  ( गीत )*
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए ( गीत )*
Ravi Prakash
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ना पूंछों हमसे कैफियत।
ना पूंछों हमसे कैफियत।
Taj Mohammad
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
अज्ञान
अज्ञान
पीयूष धामी
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
Loading...