Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

इस अनाथ को माँ जरूर देना

मैं हूँ अनाथ
इस दुनियाँ में मेरा
न घर न परिवार है
न ज़िन्दगी बेरंग है
कोई सुनता नहीं
लगता है सब पत्थर है …….

ज़माना हँसती है देख
फटे पुराने कपडे काला अंग
किसी क्या कहे
और किसे दोष दे
यहाँ सब है
अपने धुन में रंग ……….

बदलती है हर दिन ज़िन्दगी
पर दशा अपनी स्थिर
शाम कहीं और सुबह कहीं
खाने की तलाश में
भटकते है दर-बदर
पड़ गई है आदत
सो जाने की फुटपाथ में ………

देखा ही नहीं बचपन से
अपनी माँ को
माँ की ममता को
रोता हूँ चीखता -चिल्ल्ता हूँ
पागलो की तरह
कोचता हूँ अपने भाग्य को ………..

अगर मिल जाये भगवान कहीं तो
बस एक चीज़ मांगूगा
हे भगवान ! भले मुझे कुछ न देना
बस आपसे एक विनती है
इस अनाथ को माँ जरूर देना

Language: Hindi
Tag: कविता
527 Views
You may also like:
परिवार
Dr Meenu Poonia
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
'अशांत' शेखर
👌🥀🌺आप में कोई जादू तो है🌺🥀👌
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फौजी
Seema 'Tu hai na'
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
* नियम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
महाराणा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
*चिट्ठी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
भय
Shyam Sundar Subramanian
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
मत करना।
Taj Mohammad
कबीर कला मंच
Shekhar Chandra Mitra
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
Loading...