Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 23, 2016 · 1 min read

इश्क

एक गजल और-

कब लगा है बेवफा का दाग ये दिलदार पर,
संगदिल है ये जमाना दाग देता प्यार पर॥

डूबती नौका नहीं कोशे समंदर को कभी,
दोष लगता है हमेशा फर्ज का पतवार पर॥

इश्क की है रस्म ही ये मांगता कुछ खूनहै,
नग्न पैरों से चलाता है सदा तलवार पर॥

कब झुका है इश्क सहरा या बहारों में कहीं
दे हुकूमत थोप जब चाहे किसी दरबार पर॥

चैन आता ही नहीं है पुष्प को इसके बिना,
है सगल मेरा लिखूं मैं खूब सारा प्यार पर॥
पुष्प ठाकुर

247 Views
You may also like:
रफ्तार
Anamika Singh
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
बहुमत
मनोज कर्ण
If we could be together again...
Abhineet Mittal
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
# पिता ...
Chinta netam " मन "
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
दया करो भगवान
Buddha Prakash
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
देश के नौजवानों
Anamika Singh
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
पिता
Mamta Rani
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...