Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।

इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
झूंठ कहती हो कोई हमारा नहीं ।।
इश्क में एक पल भी हमारे बिना ।
झूंठ कहती हो तुमने गुजारा नहीं ।।
इश्क दरिया हमारा जो प्यारा कभी।
आज कहती हो इसमें किनारा नहीं।।
फूल तुम बन गई तो भ्रमर आ गए ।
झूंठ कहती हो इसमें इशारा नहीं ।।
ज़ख्म खाते रहे हम अकेले सनम।
झूँठ कहती प्रखर ने पुकारा नहीं ।।

सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

1 Like · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Expectation is the
Expectation is the
Shyam Sundar Subramanian
"खुद के खिलाफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
*परिवार: नौ दोहे*
*परिवार: नौ दोहे*
Ravi Prakash
I've learned the best way to end something is to let it star
I've learned the best way to end something is to let it star
पूर्वार्थ
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
"बेटी और बेटा"
Ekta chitrangini
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*प्रणय प्रभात*
आज का युवा कैसा हो?
आज का युवा कैसा हो?
Rachana
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
Monika Arora
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
Loading...