Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

इश्क का भी आज़ार होता है।

मुक्तक

इश्क का भी आज़ार होता है।
लाइलाज-ए-बुखार होता है।
चैन बेचैन हो के मिलता है।
दर्द इसमें करार होता है।

…✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बातों का तो मत पूछो
बातों का तो मत पूछो
Rashmi Ranjan
साथ जब चाहा था
साथ जब चाहा था
Ranjana Verma
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
Ravi Prakash
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
Neeraj Agarwal
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sakshi Tripathi
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
"बताया नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-374💐
💐प्रेम कौतुक-374💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
हर कोई जिंदगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिंदगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
खंड 7
खंड 7
Rambali Mishra
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...