Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।

ग़ज़ल

2122/1122/1122/22
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
दर्द ऐसा है मिला, प्यार से डर लगता है।1

वो मेरी कोई नहीं, फिर भी भुला दूं कैसे,
वो जो कहती है मुझे, यार से डर लगता है।2

तिश्नगी प्यार की, कायम भी तो रखनी यारो,
प्यास मिट जाए न, दीदार से डर लगता है।3

क्या करूं जी के भी, दुनियां में तेरी डर डर के,
अब कहां जाऍं कि, सरकार से डर लगता है।4

कैसे पहचानेंगे उसको, है ये प्रेमी मुश्किल,
छुप के बैठा है जो, किरदार से डर लगता है।5

……✍️सत्य कुमार ‘प्रेमी’

1 Like · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Satish Srijan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
घुली अजब सी भांग
घुली अजब सी भांग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
#Om
#Om
Ankita Patel
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
कवि रमेशराज
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2431.पूर्णिका
2431.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
💐प्रेम कौतुक-515💐
💐प्रेम कौतुक-515💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कैसा जुल्म यह नारी पर
कैसा जुल्म यह नारी पर
Dr. Kishan tandon kranti
■ खाने दो हिचकोले👍👍
■ खाने दो हिचकोले👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...