Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2023 · 1 min read

इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )

इश्क़ का पिंजरा “-

हर पल…. उन्हें बस याद करते हैं ।
हम वक़्त….. कहाँ बर्बाद करते हैं ।।

बस…… उनके तसव्वुर से अपना ।
आशियाना…….. आबाद करते हैं ।।

चुपचाप….. सह लेते हैं सारे सितम ।
ख़िलाफ़ उनके कहां जेहाद करते हैं ।।

ख़ुद रहते हैं……. इश्क़ के पिंजरे में ।
बस परिंदों को हम आज़ाद करते हैं ।।

“काज़ी”……… चाहत की जादूगरी से ।
रंज के लम्हों को भी….. शाद करते हैं ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
©काज़ीकीक़लम

28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इकबाल कालोनी
इंदौर , जिला-इंदौर , मध्यप्रदेश

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
तितली
तितली
Manu Vashistha
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
Aadarsh Dubey
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम कौतुक-323💐
💐प्रेम कौतुक-323💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
Dr fauzia Naseem shad
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
मन के पार
मन के पार
Dr. Rajiv
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagwan Roy
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
मजदूरीन
मजदूरीन
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
हमको
हमको
Divya Mishra
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
Ashwini sharma
Loading...