Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

इशारा नहीं होता

#मतला
अगर आँखें नहीं होती तो इशारा नहीं होता ।
नज़र के तीर से घायल तु क्या यारा नहीं होता।
#शेर
बिछड़ कर जा रहा कोई ज़रा सी बात की खातिर,
रहे वो दूर बेशक से मगर न्यारा नहीं होता।
#शेर
मनों में भेद ना हो तो मतों का भेद चलता है
विचारों के अलग होने से मन खारा नहीं होता।
#गिरह
हमें इस मोड़ पर ले आए हैं ये ख़ून के रिश्ते
अगर माँ बीच में होती तो बँटवारा नहीं होता ।
#मक़्ता
लिपटकर माँ के आँचल में फ़लक को चूमती ‘नीलम”
सफलता कैसे तुम पाती जो पुचकारा नहीं होता।
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
कायम रखें उत्साह
कायम रखें उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
Neelofar Khan
कहाॅ॑ है नूर
कहाॅ॑ है नूर
VINOD CHAUHAN
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
Loading...