Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

इल्तिजा

खूबसूरत यादौं के सहारे कट जायेगी ये शाम!
दिल-ओ-दिवार पर लिख दिया- उसका नाम!!
मेरे महबूब की बस इतनी सी ही इल्तिजा थी –
बाद उसके कोई कभी न करे मुहब्बत बदनाम!!
मैने ताउम् इस उज्र को बच्चे की मानिंद पाला,
उम्र की दहलीज़ ये सोचा, हो जाऊं न गुमनाम!!
क्यों करके मुहब्बत बदनामी से इस कदर डरै ?
इश्क औ मुश्क कब छुपाए छुपे लगे हैं इल्जाम!!

Language: Hindi
294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
"याद तुम्हारी आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*Author प्रणय प्रभात*
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
*
*
Rashmi Sanjay
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
गलतियाँ हो गयीं होंगी
गलतियाँ हो गयीं होंगी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
बात तो सच है सौ आने कि साथ नहीं ये जाएगी
Shweta Soni
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
Umender kumar
अनहोनी करते प्रभो, रखो मनुज विश्वास (कुंडलिया)*
अनहोनी करते प्रभो, रखो मनुज विश्वास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
बाप की गरीब हर लड़की झेल लेती है लेकिन
शेखर सिंह
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
Loading...