Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

इम्तिहान की घड़ी

इम्तिहान की घड़ी

ये जिंदगी का खेल है,
बस कुछ मुश्किलों का मेल है,
मुश्किलों की इस गठबंधन से,
तुम कब तक घबराओगे,
रणभूमि में कायर बन,
यूँ कब तक पीठ दिखाओगे,
इम्तिहान से घबराओगे तो
जीवन क्या जी पाओगे।

मेरे यारों, तू अपने अब पंख खोल दे,
आलस का बंधन तोड़ दे,
आलस की इस महाजाल में,
यूँ ही फँस के रह जाओगे,
बुजदिल झाँकना खुद को,
मरा हुआ ही पाओगे,
वीरगति पाना कभी तुम,
मर के भी अमर हो जाओगे,
अरे, इम्तिहान से घबराओगे तो
जीवन क्या जी पाओगे।

भाग्य तेरे कदमों में होगा,
बस तू खुद को जान ले,
अपना आत्मविश्वास खोने न दे,
खुद पर डर का हावी होने न दे,
डर के इस काली गुफा में,
तू कहीं भटक तो न जाओगे,
इम्तिहान से घबराओगे तो
जीवन क्या जी पाओगे।

याचना करना बंद करो अब,
मेहनत करके छीन ले,
मेहनत की इस कुंजी से,
तुम वो हर चीज़ पाओगे,
थक हारकर यूँ चिंतित होकर,
क्या तुम चैन से रह पाओगे,
इम्तिहान से घबराओगे तो
जीवन क्या जी पाओगे।

जिस मोड़ पे तू खरा है,
वह वक़्त बड़ा सुनहरा है,
सुनहरे इस वक़्त को,
अगर यूँ ही गबाओगे,
तो गाँठ बाँध लो देशवासियों,
जीवन भर ठोकर खाओगे,
छोटी सी बातें लेकर अगर,
इतनी अधीर हो जाओगे,
सोचो जरा मेरे प्यारे,
जीवन में क्या कर पाओगे,
इम्तिहान से घबराओगे तो
जीवन क्या जी पाओगे।
-आदित्य राज
(जवाहर नवोदय विद्यालय)
खगड़िया (बिहार)

Language: Hindi
142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
*कंधों में अब दम ही कब है, अर्थी कैसे ढोयेंगे (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*कंधों में अब दम ही कब है, अर्थी कैसे ढोयेंगे (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू क्या सोचता है
तू क्या सोचता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बादल  खुशबू फूल  हवा  में
बादल खुशबू फूल हवा में
shabina. Naaz
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
परमात्मा से अरदास
परमात्मा से अरदास
Rajni kapoor
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar N aanjna
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
आर.एस. 'प्रीतम'
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
Dr fauzia Naseem shad
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
धार्मिक_आलेख / तुलसी का दास्य भाव
धार्मिक_आलेख / तुलसी का दास्य भाव
*Author प्रणय प्रभात*
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...