Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

“इफ़्तिताह” ग़ज़ल

उससे उल्फ़त का, इफ़्तिताह किया,
हमने ख़ुद को ही ज्यूँ, तबाह किया।

याद है अब भी, तबस्सुम उसका,
दिल को मेरे था, जो मिराह किया।

मुझको, क्या ख़ूब दी सज़ा उसने,
गोया मैंने, कोई, गुनाह किया।

उफ़, वो शफ़़्फाफ़ सा बदन उसका,
हमने शोहरत को अपनी, स्याह किया।

उसको आता नहीं, यक़ीं क्यूँकर,
इश्क़ हमने था, बेपनाह किया।

उसका अहसान, कम नहीं, आशा”,
आह निकली, तो उसने वाह किया..!

इफ़्तिताह # प्रारंभ, उद्घाटन आदि, opening, inauguration etc.ः
मिराह # प्रसन्न, gladness, joy etc

Language: Hindi
5 Likes · 5 Comments · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
यह तुम्हारी गलत सोच है
यह तुम्हारी गलत सोच है
gurudeenverma198
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
*बरगद (बाल कविता)*
*बरगद (बाल कविता)*
Ravi Prakash
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
शेरनी का डर
शेरनी का डर
Kumud Srivastava
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
Loading...