Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-548💐

इन पयामों से मुझे तंग किया जा रहा है,
कुछ नहीं बस मुझे रंज दिया जा रहा है,
क्या बचा है बात करो सीधे अब्बा से सुनो,
बे-फ़ुज़ूल क्यों हुड़दंग किया जा रहा है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

संडे तक का समय है जो कुछ करना है।कर लो।फिर कुछ नही होगा।बहुत इत्मीनान से कर लो।फट्टू हो।सभी।आओ यहाँ।हमारे भाई से बात करो।देख लो।मरो।तुम सब नाबालिग हो।

Language: Hindi
496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं कीड़ा राजनीतिक
मैं कीड़ा राजनीतिक
Neeraj Mishra " नीर "
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
Ravi Prakash
दरकती है उम्मीदें
दरकती है उम्मीदें
Surinder blackpen
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
👍
👍
*Author प्रणय प्रभात*
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
"यह आम रास्ता नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
Loading...