Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2017 · 1 min read

इन अश्कों से जाना ग़ज़ल हो रही है

इन अश्कों से जाना ग़ज़ल हो रही है
पिला गम की हाला ग़ज़ल हो रही है

ये तन्हाइयां साथ हैं अब हमारे
न आवाज देना ग़ज़ल हो रही है

लजाती निगाहों में झाँका जो हमने
मुहब्बत की देखा ग़ज़ल हो रही है

लिखें धड़कनें और खामोश लब हैं
बिना शब्द उम्दा ग़ज़ल हो रही है

दबा दर्द ही निकला था आह बनकर
कि लोगों ने समझा ग़ज़ल हो रही है

गए प्यार में डूब यूँ ‘अर्चना’ हम
जिधर देखें लगता ग़ज़ल हो रही है

डॉ अर्चना गुप्ता

385 Views

Books from Dr Archana Gupta

You may also like:
सफर
सफर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गज़ल
गज़ल
करन मीना ''केसरा''
हम और हमारे 'सपने'
हम और हमारे 'सपने'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
✍️वक़्त आने पर ✍️
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ख्वाब
ख्वाब
Anamika Singh
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
Shubham Pandey (S P)
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
खुद को मूर्ख बनाते हैं हम
खुद को मूर्ख बनाते हैं हम
Surinder blackpen
मंगलमय हो भाई दूज, बहिन बेटियां सुखी रहें
मंगलमय हो भाई दूज, बहिन बेटियां सुखी रहें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
Who's Abhishek yadav bojha
Who's Abhishek yadav bojha
Abhishek Yadav
ये आँखों से बहते अश्क़
ये आँखों से बहते अश्क़
'अशांत' शेखर
बदलाव
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
बुद्ध ही बुद्ध
बुद्ध ही बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
आंखें
आंखें
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
✍️✍️प्रेम की राह पर-67✍️✍️
✍️✍️प्रेम की राह पर-67✍️✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुशियों से भी चेहरे नम होते है।
खुशियों से भी चेहरे नम होते है।
Taj Mohammad
घुमंतू की कविता #1
घुमंतू की कविता #1
Rajeev Dutta
जीवन
जीवन
पीयूष धामी
Air Force Day
Air Force Day
Aruna Dogra Sharma
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लोकदेवता :दिहबार
लोकदेवता :दिहबार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वक़्त पर तू अगर वक़्त का
वक़्त पर तू अगर वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
*मुसाफिर (मुक्तक)*
*मुसाफिर (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ कौशल उन्नयन
■ कौशल उन्नयन
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...