Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

इतिहास

कभी गुजरों उन वीथिकाओं से
जहां तुम्हारे मन ने उकेरी थी
मेरी कई जीवंत प्रतिमाएं
तो ठहर जाना, दो घड़ी
बंद कर नयन,सुनना
मेरी करुण पुकार
मेरा आर्तनाद
मेरी खोजती आंखों
का क्रंदन
तुम्हारे नाम की आवृत्ति
मेरे मौन का उदघोष
और हां ! देख लेना
वहां बिखरा
मेरा समर्पण
मेरा स्नेह
मेरा द्रवित हृदय
जो सिर्फ़ तुम्हारी
प्रतीक्षा में
पत्थर बन चुका है।

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 354 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*****आज़ादी*****
*****आज़ादी*****
Kavita Chouhan
If I were the ocean,
If I were the ocean,
पूर्वार्थ
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
आर.एस. 'प्रीतम'
बांते
बांते
Punam Pande
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
💐अज्ञात के प्रति-93💐
💐अज्ञात के प्रति-93💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
#आप_भी_बनिए_मददगार
#आप_भी_बनिए_मददगार
*Author प्रणय प्रभात*
3173.*पूर्णिका*
3173.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थोड़ा सा मुस्करा दो
थोड़ा सा मुस्करा दो
Satish Srijan
बादल
बादल
Shankar suman
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...