Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

– “इतिहास ख़ुद रचना होगा”-

शीर्षक – ” इतिहास ख़ुद रचना होगा ”

अंधकार से लड़कर अब आगे बढ़ना होगा ।
कलम उठा इतिहास ख़ुद हमें रचना होगा ।।

बुद्धि बल से अब प्रगति सोपान चढ़ना होगा ।
रोशन हो जाये नाम ,कार्य ऐसा करना होगा ।।

करने होंगे पुण्य हमें , भगवान से डरना होगा ।
दीन-दुखियों, लाचारों के कष्टों को हरना होगा ।।

आँचल हमें परिजनों का ख़ुशियों से भरना होगा ।
धर्म-न्याय के पथ पर हमें आगे आगे चलना होगा ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी , ” काज़ीकीक़लम ”
28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इकबाल कालोनी
इंदौर , मध्यप्रदेश

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
■आज का #दोहा।।
■आज का #दोहा।।
*Author प्रणय प्रभात*
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
Neelam Sharma
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
Loading...