Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

कैसे भूल जाएं…

इतिहास के उन स्याह पन्नों को कैसे भूल जाएं
किए थे जो जघन्य अपराध तुमने कैसे भूल जाएं
साथ लेकर अब उन्ही का करते हो पूजा की बातें
भूना गोलियों से जिन्हे बलिदान कैसे भूल जाएं

इंजी. संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मध्यप्रदेश
12.06.2023

177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er. Sanjay Shrivastava
View all
You may also like:
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
*होली किस दिन को मने, सबसे बड़ा सवाल (हास्य कुंडलिया)*
*होली किस दिन को मने, सबसे बड़ा सवाल (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-152💐
💐अज्ञात के प्रति-152💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
Swati
#आह्वान_तंत्र_का
#आह्वान_तंत्र_का
*Author प्रणय प्रभात*
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
शिव स्तुति
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आलेख : सजल क्या हैं
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चेतावनी
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम
Satish Srijan
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
Loading...