Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

इतनी उम्मीदें

हो शिकायत ज़िन्दगी से हमें ।
इतनी उम्मीदें हम नहीं रखते ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
#मीडियाई_मखौल
#मीडियाई_मखौल
*प्रणय प्रभात*
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
माटी के रंग
माटी के रंग
Dr. Kishan tandon kranti
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
शेखर सिंह
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
गरिबी र अन्याय
गरिबी र अन्याय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"आज की रात "
Pushpraj Anant
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
Ranjeet kumar patre
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
Loading...