Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

मैं जवान हो गई

मैंने प्रेम क्या किया, इम्तिहान हो गई
मेरे प्रेम का चर्चा, सरेआम हो गई
जमाने को मौका चाहिए था
हमने मौका दिया, कि बदनाम हो गई।

दोष किसका दु, खुद की या जमाने का
तय वही होता है, जो सब चाहते है
बस यही सोच कर, मैं परेशान हो गई।
हमने मौका……….

जिधर देखो, बस मुझे ही देखने वाले है
जिधर सुनो, चर्चे सिर्फ हमारे है
प्रेम करके ऐसा कौन सा, गुनाह कर दिया मैंने
कि सारे इल्जाम, मेरे नाम हो गई ।
हमने मौका……….

अब तक बचपना में, जी रहे थे हम
सारे शिकवे गिले, पी रहे थे हम
ये जमाना भी, क्या खुब दिखाती है आयना
अब मुझे भी लगता है, मै जवान हो गई ।
हमने मौका………

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
1 Like · 659 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
Ravi Prakash
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
मेरी प्रेरणा
मेरी प्रेरणा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
मॉर्निंग वॉक
मॉर्निंग वॉक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*प्रणय प्रभात*
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कामयाबी"
Dr. Kishan tandon kranti
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कोना मेरे नाम का
कोना मेरे नाम का
Dr.Priya Soni Khare
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
विकास शुक्ल
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...