Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2016 · 1 min read

इक दफा आजमाइये

शहीदों के लिये इक दीपक जलाइये
पर्यावरण के लिये इक पौधा लगाइये
***************************
हो जायेगी आपकी आत्मा भी प्रसन्न
बस इक दफा तो ये नुस्ख़ा आजमाइये
****************************
कपिल कुमार
09/08/2016

Language: Hindi
211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,
कवि दीपक बवेजा
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बताया नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
प्रेम की कहानी
प्रेम की कहानी
Er. Sanjay Shrivastava
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
*सुविचरण*
*सुविचरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
"किसान"
Slok maurya "umang"
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
"बहुत से लोग
*Author प्रणय प्रभात*
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
अंकुर
अंकुर
manisha
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हो जाऊं तेरी!
हो जाऊं तेरी!
Farzana Ismail
Loading...