Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 2 min read

इंसान और कुता

बहुत पहले सलमान खान कि एक मूवी आई थी बीबी नम्बर-1 जिसके समापन का अंतिम संवाद था (इंसान कुत्ता होता है)।

बहुत दिनों तक मैं बीबी नम्बर -1 के पटकथा एव संवादों पर विचार करता रहा जब जब मेरे जेहन में सलमान खान कि बीबी नंबर-1 मूवी का विचार आता मेरे जेहन में एक घटना घूम जाती और तब महसूस होता कि फ़िल्म के अंत का संवाद विल्कुल सही है वास्तव मे इंसान और कुत्ते में कम से कम कोई एक कारण है जो समानता स्थापित करती है।

जो घटना मेरे जेहन में स्प्ष्ट परिलक्षित होती है वह 20 वीं सदी के समापन से दस बारह वर्ष पूर्व कि है गोरखपुर में महादेव झारखंडी में उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद कि एक कालोनी निर्माणाधीन थी जिसके एक ठीकेदार गुमान सिंह जी थे ।

दोपहर का समय चिलचिलाती धूप अचानक एक महिला जिसकी उम्र 30 -35 वर्ष ही रही होगी जो स्वंय को आजमगढ़ निवासी बताती रास्ता भटक गई थी उंसे देखने से ऐसा नही लगता कि उसकी मानसिक स्थिति खराब है वह गोरखपुर के संभ्रांत एव प्रतिष्टित व्यक्तियों का संबंधी भी बताती खुद को जिसका कोई प्रभाव नही था।

उस महिला को कुछ मनचले बहका फुसला कर निर्माणाधीन महादेव झारखण्डी कालोनी के एक मकान में ले गए और इंसान के रूप में कुत्तों का जमघट लगना शुरू हुआ ।

एक एक करके एक व्यक्ति उस निरीह महिला के पास जाता और बाहर निकलता यह सिलसिला लगभग पूरे दिन चलता रहा उस महिला कि ऊर्जा को बनाये रखने के लिए अंडे आदि दिए जाते वह बेचारी कच्चे फर्श पर पड़ी अपने किस्मत को ही कोसती ।

जितने भी लोग उस महिला के संसर्ग में आये सभी विवाहित थे मैं भी उस भीड़ का हिस्सा था मेरे साथ सोहाब मियां थे जो कट्टर नवाजी थे सिर्फ उस भीड़ में नंदू और सोहाब मियां ही ऐसे व्यक्ति थे जो इस गिद्धों के भोज के दर्शक थे ।

तब नंदू को पूरा यकीन हो गया कि वास्तव में बीबी नंबर-1 का अंतिम संवाद पुरुष प्रधान समाज मे नारी कि स्थिति और पुरुष कि मानसिकता का ही सत्यार्थ है।।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीतांबर गोरखपुर उत्तर प्रदेश।।

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
सोच समझ कर
सोच समझ कर
पूर्वार्थ
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
★याद न जाए बीते दिनों की★
★याद न जाए बीते दिनों की★
*Author प्रणय प्रभात*
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
Ravi Prakash
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
दुआओं में जिनको मांगा था।
दुआओं में जिनको मांगा था।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
Loading...