Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2023 · 1 min read

इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे

इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
कि एक दूसरे को समझना ही भूल गए
वो भूल गए कि जिसे वो परख रहे हैं
वो कोई धातु नहीं
हाड़ मांस रक्त और संवेदनाओ से भरा इंसान है
फिर इक दिन परखते परखते वो मशीन बन गए।।

Ruby kumari

2 Likes · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
Ravi Prakash
जामुनी दोहा एकादश
जामुनी दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
पूर्वार्थ
*सत्य  विजय  का पर्व मनाया*
*सत्य विजय का पर्व मनाया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
sushil sarna
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
शिव वंदना
शिव वंदना
ओंकार मिश्र
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...