Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

इंसानो की इस भीड़ में

इंसानों की इस भीड़ में कोई इंसा नहीं मिलता।
जो रूह से हो वाबस्ता वह रिश्ता नहीं मिलता ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
14 Likes · 311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
*प्रणय प्रभात*
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
"दीपावाली का फटाका"
Radhakishan R. Mundhra
ख़ामोशी
ख़ामोशी
Dipak Kumar "Girja"
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम उस पीढ़ी के लोग है
हम उस पीढ़ी के लोग है
Indu Singh
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रेम.... मन
प्रेम.... मन
Neeraj Agarwal
दिल का आलम
दिल का आलम
Surinder blackpen
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"घूंघट नारी की आजादी पर वह पहरा है जिसमे पुरुष खुद को सहज मह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
Loading...