Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 2 min read

इंसानियत

इंसानियत

“बेटी, तुम शहर के सबसे बड़े इंडस्ट्रियलिस्ट ठा. गजेंद्र सिंह की इकलौती बेटी हो। अरबों रुपये की प्रापर्टी का एकमात्र वारीस। तुमसे शादी करने के लिए तो देश-विदेश के हजारों करोड़पति परिवार के लड़के तैयार बैठे हैं और तुम उस दो कौड़ी के पशु चिकित्सक रमेश से शादी की जिद पाले बैठे हो। पता नहीं क्या खासीयत दिखा तुम्हें उस ढोर डॉक्टर में ?”
“इंसानियत पापा। रमेश और मेरी स्कूली पढ़ाई एक ही स्कूल में हुई है। स्कूल के दिनों में वह बहुत ही शांत और पढ़ाकू स्वभाव का था। उस समय तो शायद ही कभी मेरी उससे बात हुई हो। पिछले हफ्ते जेठ की तपती दुपहरी में, जहाँ लोग घर से बाहर निकलने के पहले सौ बार सोचते हैं, जिंदगी और मौत के बीच लटक रहे जिंदा इंसान को नजरअंदाज कर आगे बढ़ जाते हैं, वह लड़का मुझे हाइवे पर तड़पते हुए एक लावारिस कुत्ते का इलाज करते हुए दिखा। पापा, जिस इंसान के हृदय में एक लावारिस कुत्ते के प्रति इतनी सहानुभूति का भाव हो, वह कितना सहृदय होगा, आप स्वयं अंदाजा लगा सकते हैं।”
“बेटा इस रमेश कुमार सिंह का कुछ एड्रेस वगैरह है तुम्हारे पास।”
“क्यों ?”
“अरे भई, यहाँ हम घर बैठे रह गए, तो तुम दोनों की शादी कैसे हो सकती है ? रिश्ता की बात करने उनके घर तो जाना ही पड़ेगा न।”
“पापा…।” वह खुशी से अपने पापा से लिपट गई।
“आई एम प्राउड ऑफ यू माई डियर। मुझे तुम्हारी पसंद पर नाज है। बोलो कब चलना है बात करने ?”
मारे खुशी के उसकी आँखों से आँसू निकल गए। वह सपने में भी नहीं सोच सकी थी कि उसके पापा इस रिश्ते को इतनी आसानी से स्वीकार कर लेंगे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 613 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेले
मेले
Punam Pande
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
????????
????????
शेखर सिंह
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
घमंड
घमंड
Adha Deshwal
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
Ravi Betulwala
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रूह का छुना
रूह का छुना
Monika Yadav (Rachina)
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
Loading...