Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

“इंतज़ार”

कतरा-कतरा टूट कर गिरा,
अब मैं सूनी हो गयी ,
नि:शब्द -शब्द गूंज कर गिरा,
मैं खुश्क और श्वेत हो गयी,
राह तकी बरसों मैने,
गोद गीली हो गयी,
जाने कितनी शामें थकी हुयी,
हाय! तेरी याद में ……,
रात भारी हो गयी
आयेगी वो सुबह कभी,
इसी इंतज़ार में ………,
आंखें मेरी पत्थर हो गयी|
……निधि…

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 343 Views
You may also like:
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे सपनों का भारत
Shekhar Chandra Mitra
कुछ जुगनू उजाला कर गए।
Taj Mohammad
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
हाँ, मैं ऐसा तो नहीं था
gurudeenverma198
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
■ विशेष_आलेख / कूनो की धरा किसकी...?
*प्रणय प्रभात*
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुहिन ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️सिर्फ गांधी का गांधी होना पर्याप्त नहीं था...
'अशांत' शेखर
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
👁️✍️वाह-वाह तुम्हारे आँख का काजल✍️👁️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
अकेला चलने का जिस शख्स को भी हौसला होगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
काली सी बदरिया छाई...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
चली चली रे रेलगाड़ी
Ashish Kumar
“ खून का रिश्ता “
DrLakshman Jha Parimal
जिद्दी परिंदा 'फौजी'
Seema 'Tu hai na'
सियासी चालें गहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
Loading...