Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

“इंतज़ार”

कतरा-कतरा टूट कर गिरा,
अब मैं सूनी हो गयी ,
नि:शब्द -शब्द गूंज कर गिरा,
मैं खुश्क और श्वेत हो गयी,
राह तकी बरसों मैने,
गोद गीली हो गयी,
जाने कितनी शामें थकी हुयी,
हाय! तेरी याद में ……,
रात भारी हो गयी
आयेगी वो सुबह कभी,
इसी इंतज़ार में ………,
आंखें मेरी पत्थर हो गयी|
……निधि…

Language: Hindi
1 Like · 479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
*वीरस्य भूषणम् *
*वीरस्य भूषणम् *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
माँ मेरी परिकल्पना
माँ मेरी परिकल्पना
Dr Manju Saini
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
उपदेश से तृप्त किया ।
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2570.पूर्णिका
2570.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लिप्सा
लिप्सा
Shyam Sundar Subramanian
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
शराब का सहारा कर लेंगे
शराब का सहारा कर लेंगे
शेखर सिंह
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...